• May 19, 2024

केदारनाथ में लगातार हो रहे हिमस्खलन, अध्ययन करने के लिए वैज्ञानिकों की टीम रवाना

 केदारनाथ में लगातार हो रहे हिमस्खलन, अध्ययन करने के लिए वैज्ञानिकों की टीम रवाना
Sharing Is Caring:

केदार घाटी में हो रहे हिमस्खलन का अध्ययन करने के लिए टीम रवाना होगी. वाडिया इंस्टीट्यूट के 2 वैज्ञानिक आज केदारनाथ में उस जगह जाएंगे जहां पिछले 11 दिनों में 4 बार हिमस्खलन हो चुका है.

उत्तराखंड सरकार केदारनाथ की पहाड़ियों पर हिमस्खलन के स्थलीय निरीक्षण के लिए पहले ही टीम गठित कर चुकी है. वैज्ञानिकों की टीम स्थलीय निरीक्षण और अध्ययन करने के बाद विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेगी. रिपोर्ट तैयार करने के बाद वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों की टीम इसे उत्तराखंड सरकार और शासन को सौंप देगी. साथ ही लगातार हो रहे हिमस्खलन को रोकने के उपाय भी सुझाएगी.

केदारनाथ धाम में मंदिर परिसर से करीब पांच से सात किमी की दूरी पर चौराबाड़ी ग्लेशियर के टूटने की घटनाएं हो रही हैं. बीती 22 सितंबर को हिमस्खलन की पहली घटना हुई. इस दृश्य को लोगों ने कैमरे में कैद किया. इसके बाद 26 सितंबर को केदारनाथ के इसी क्षेत्र में हिमस्खलन हुआ. 27 सितंबर को भी केदारनाथ की पहाड़ियों पर हिमस्खलन हुआ था. हालांकि ये घटना रिकॉर्ड नहीं हो पाई थी. 1 अक्टूबर को भी केदारनाथ की पहाड़ी पर हिमस्खलन हुआ था.

सचिव आपदा प्रबंधन ने किया था अध्ययन का आग्रह: केदारनाथ की पहाड़ियों पर 22 सितंबर को जब पहली बार हिमस्खलन हुआ तो आपदा प्रबंधन विभाग तभी अलर्ट हो गया था. सचिव आपदा प्रबंधन को हिमस्खलन की पहली घटना के बाद ही पत्र लिखकर भूगर्भीय टीम से क्षेत्र का अध्ययन कराने का आग्रह किया गया था. चारों घटनाओं से मंदाकिनी का जलस्तर नहीं बढ़ा. न ही किसी प्रकार का कोई नुकसान हुआ. सुरक्षा की दृष्टि से एसडीआरएफ, डीडीआरएफ और केदारनाथ में मौजूद प्रशासनिक टीम को अलर्ट करते हुए निगरान के निर्देश दिए गए हैं.

Sharing Is Caring:

Admin

https://nirmanshalatimes.com/

A short bio about the author can be here....

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *